हजारों एकड़ भूमि डूबेगी तो क्या काम की ऐसी परियोजना?

हजारों एकड़ भूमि डूबेगी तो क्या काम की ऐसी परियोजना?

हजारों एकड़ भूमि डूबेगी तो क्या काम की ऐसी परियोजना? 

नरसिंहपुर// सलामत खान 
toc news internet channel

  • हजारों एकड़ भूमि डूबेगी तो क्या काम की ऐसी परियोजना? 
  • प्रभारी मंत्री ने दिये निर्देश, रोका जाये चिनकी बांध का काम
  • रीछई बांध के सीपेज पर नाराज हुए प्रभारी मंत्री,
  • विधायकों को निरीक्षण के निर्देश

नरसिंहपुर। राजस्व एवं पुनर्वास तथा जिले के प्रभारी मंत्री रामपाल सिंह ने शनिवार को आयोजित जिला योजना समिति की बैठक में चिनकी बहुउद्देश्यीय परियोजना के कार्य रोकने के निर्देश दिये। उल्लेखनीय है कि जनप्रतिनिधियों द्वारा चिनकी परियोजना का विरोध करने और इस परियोजना के कारण दो जिलों के १६७ गांवों के डूब क्षेत्र में आने की आशंका व्यक्त की गई थी। साथ ही बताया गया था कि इस परियोजना के कारण १७ हजार ५०० एकड़ उपजाऊ भूमि डूब क्षेत्र में आ जाती। जनप्रतिनिधियों की मंशा से सहमत होते हुये प्रभारी मंत्री ने चिनकी परियोजना को रोकने के निर्देश दिये और कहा कि जियोस की बैठक की प्रस्तावना में इसे शामिल कर लिया जाये।

गंभीरता से लें बिजली कर्मियों की शिकायतें

बैठक में प्रभारी मंत्री श्री सिंह ने विभिन्न ग्रामों में जले ट्रांसफार्मरों को बदलने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि ऊर्जा विभाग के मैदानी कर्मचारियों की ग्रामीणों द्वारा शिकायत को गंभीरता से लिया जायेगा। उन्होंने १६ केव्ही के जले हुये ट्रांसफार्मरों की जगह २५ केव्ही के ट्रांसफार्मर लगाने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि हीरापुर में १३ जनवरी को उनके द्वारा संबंधित अधिकारियों को निर्माण कार्य के संबंध में जो निर्देश दिये गये थे, उनको समय सीमा में पूरा किया जाये। प्रभारी मंत्री ने रीछई, डोभ और बंधा जलाशय से संबंधित जानकारी ली। रीछई बांध की नहर से हो रहे सीपेज की शिकायत प्राप्त होने पर उन्होंने सिंचाई विभाग के अधिकारी को शिकायत का निराकरण करने के निर्देश दिये। संबंधित अधिकारी ने बताया कि डोभ जलाशय के निर्माण का कार्य ४५ प्रतिशत पूरा हो चुका है। जलाशयों के साथ. साथ नाली निर्माण का कार्य भी तेजी से किया जा रहा है। प्रभारी मंत्री ने सभी विधायकों से कहा कि वे एक बार जलाशयों और विभिन्न परियोजनाओं का मौके पर ही निरीक्षण करें। 

शिविर लगाकर बनायें गरीबी रेखा कार्ड

रामपाल सिंह ने शक्कर, शेर व दुधी वृहद परियोजना के कार्य समय सीमा में करने के निर्देश दिये। उन्होंने जिला प्रशासन को निर्देशित किया कि वे जिले में एक अभियान चलाकर जगह-जगह शिविर लगाकर गरीब हितग्राहियों के राशन कार्ड और गरीबी रेखा के कार्ड बनाना सुनिश्चित करें। जमीन के मुआवजा वितरण में विसंगति की ओर ध्यान आकृष्ट कराये जाने पर प्रभारी मंत्री ने कलेक्टर संजीव सिंह को निर्देशित किया कि वे मुआवजा राशि में वितरण की विसंगति दूर करें। उन्होंने कलेक्टर से कहा कि वे ६ फरवरी को मुख्यमंत्री की सभा में हायर सेकेंडरी स्कूल व महाविद्यालय के विद्यार्थियों की उपस्थिति भी सुनिश्चित करें। बैठक में सर्वसम्मति से स्थानीय पुलिस ग्राउंड की बाउंड्रीबॉल, रोड और पुलिस कोतवाली की शिफ्टिंग से संबंधित कार्यों को समिति के प्रस्ताव शामिल किया गया।

विधायकों ने समस्याओं पर कराया ध्यानाकृष्ट

बैठक में अपेक्स बैंक उपाध्यक्ष कैलाश सोनी ने विभिन्न समस्याओं की ओर प्रभारी मंत्री का ध्यान आकृष्ट कराया। नरसिंहपुर विधायक जालम सिंह पटैल ने बताया कि गन्ना कुल्होरों को उद्योग मानकर ऊर्जा विभाग द्वारा बिजली की कमर्सियल दर तय की गई है, जो कि गलत है। उन्होंने रीछई बांध से आस-पास के गांवों में सिंचाई न होने की बात कहीं। गाडरवारा विधायक गोविंद सिंह पटैल ने बैठक में बताया कि कई घरों में बिजली के तार नहीं पहुंच पाने के कारण रहवासी बिजली से वंचित हो रहे हैं। तेंदूखेड़ा विधायक संजय शर्मा ने बीकोर में ट्रांसफार्मर जलने और कछार टोला, सर्रा व खड़ई में बिजली संबंधी अनियमितताओं की ओर प्रभारी मंत्री का ध्यान आकृष्ट किया। जिला पंचायत के उपाध्यक्ष लाखन पटैल, जियोस की सदस्य श्रीमती प्रतिभा महाजन ने भी अपने विचार व्यक्त किये।

Posted by jasika lear, Published at 05.47

Tidak ada komentar:

Posting Komentar

Copyright © THE TIMES OF CRIME >