आप के समर्थन में आई मेधा पाटकर

आप के समर्थन में आई मेधा पाटकर

toc news internet channel 

[टी ओ सी न्यूज़  ] महाराष्ट्र में अरविंद केजरीवाल की आम आदमी पार्टी को उस समय काफी बढ़ावा मिला जब सामाजिक कार्यकर्ता मेधा पाटकर ने सोमवार को इस पार्टी को अपना ‘पूरा’ समर्थन देने की घोषणा की।
दूसरी तरफ, दिल्ली में आम आदमी पार्टी ने दावा किया कि मेधा की नर्मदा बचाओ आंदोलन से जुड़े कार्यकर्ता और सारे विस्थापित लोगों ने आम आदमी पार्टी को समर्थन दिया है। काफी लोग आप की सदस्यता भी ग्रहण करेंगे. जेएनयू के प्रोफेसर कमल चिनॉय ने भी आप की सदस्यता ग्रहण कर ली । कमल वामपंथी विचारधारा के हैं और उनका जुड़ाव सीपीआई से रहा है।

मेधा ने यहां संवाददाताओं से कहा, ‘हम आम आदमी पार्टी को अपना पूरा समर्थन देते हैं. आप ने अपने एजेंडा में भ्रष्टाचार से लड़ने का अभियान शामिल किया है जबकि हम आदर्श (आवासीय सोसायटी घोटाला) और लवासा (मुददों के) जरिये भ्रष्टाचार के खिलाफ जंग छेड़े हुए हैं। ’

मेधा ने कहा, ‘हमने उनके (आप के) दस्तावेजों का अध्ययन किया है और हमें पाया है कि इसमें छोटे से बड़ा आर्थिक नजरिया कहीं न कहीं झलकता है. हम आगे भी वार्ता जारी रखेंगे और न केवल घोषणापत्र बल्कि कार्य संस्कृति तथा उनके कामकाजी दस्तावेजों में अपने नजरिये का योगदान देंगे।

नर्मदा बचाओ आंदोलन में अपने योगदान के लिए चर्चित मेधा ने कहा कि वह 16 और 17 जनवरी को वरिष्ठ आप नेताओं के साथ चर्चा के बाद पार्टी में अपनी भूमिका के बारे में घोषणा करेंगी. आप नेता मयंक गांधी और अंजलि दमानिया ने मेधा द्वारा समर्थन देने का स्वागत किया।

दिल्ली ब्यूरो के मुताबिक आप नेता प्रशांत भूषण ने संवाददाता सम्मेलन में कहा कि नर्मदा बचाओ आंदोलन के बैनर तले तीन दशक से नर्मदा घाटी में आंदोलन चलाया जा रहा है. आंदोलन से जुड़े कार्यकर्ता और सारे विस्थापित लोगों ने आप को समर्थन दिया है। काफी लोग आप की सदस्यता भी ग्रहण करेंगे. उन्होंने कहा कि तमाम जनांदोलनों से जुड़े लोग आप की ओर आकषिर्त हो रहे हैं।

इस मौके पर नर्मदा बचाओ आंदोलन के नेता आलोक अग्रवाल ने कहा कि हम सभी लोग आप को समर्थन दे रहे हैं. पार्टी की सदस्यता भी ग्रहण करेंगे । आंदोलन की अगुवाई करने वाली मेधा पाटकर को लेकर पूछे गए सवाल पर आलोक ने कहा कि पाटकर ने आप को समर्थन दिया है. वह अभी सदस्यता ग्रहण करेंगी या नहीं, अभी नहीं कहा जा सकता।
Posted by jasika lear, Published at 03.49

Tidak ada komentar:

Posting Komentar

Copyright © THE TIMES OF CRIME >