राधा ज्वेलर्स पर आयकर का छापा

राधा ज्वेलर्स पर आयकर का छापा

toc news internet channel

By Ashok Vani
  
कार्रवाई से व्यापारियों में मचा हड़कंप 

गुना। हाट रोड स्थित नगर के प्रमुख गहने विक्रेता राधा ज्वेलर्स शोरूम पर मंगलवार को आयकर विभाग द्वारा छापामारी की गई। इस कार्रवाई से सराफा सहित समूचे बाजार में हड़कंप मच गया। मंगलवार को शहर में बाजार अवकाश रहता है, जिसके चलते आमतौर पर  माहौल शांत रहता है, लेकिन छापामार कार्रवाई ने हाटरोड पर तमाशबीनों का मजमा लगा  दिया और अटकलों का दौर चलता रहा। प्राप्त जानकारी के अनुसार ग्वालियर से आई आधा दर्जन से अधिक आयकर अधिकारी व कर्मचारियों की टीम ने करीब शाम 3:30 बजे राधा ज्वेलर्स पर छापा मारा। एक ओर अधिकारी शोरूम के अंदर कागज उलटते पलटते रहे, वहीं सड़कों पर चर्चाओं का दौर गर्म होता रहा। चर्चा क्यों न होती शहर में राधा ज्वेलर्स को सबसे बड़ा शोरूम जो माना जाता है। कार्रवाई के दौरान बाहर सुरक्षा बल तैनात कर दिया गया था। 

शोरूम के अंदर किसी का प्रवेश बंद था और कांच के अदर आयकर विभाग की टीम जूस और चाय की चुस्कियों के साथ संस्थान के बहीखाते, रसीद कट्टे खंगालते नजर आई।  सूत्रों का कहना है कि विभाग द्वारा हाट रोड स्थित राधा कॉम्प्लेक्स की दोनों दुकानों पर साथ-साथ रिकार्ड देखे जाने के साथ ही कम्पयूटर में दर्ज डाटा का परीक्षण भी किया गया इसके साथ ही विभिन्न  फाइलों और रसीद कट्टों की भी पड़ताल की गई। घंटों चली इस कार्रवाई  पर आसपास की दुकानों पर जमा लोगों की पैनी नजर रही और तरह-तरह के अनुमान लगते रहे। सूत्रों के अनुसार आयकर विभाग के अधिकारी-कर्मचारियों ने दुकान के अलावा घर से भी व्यवसायिक लेन-देन के कागजातों को जांच पड़ताल की। 

कार्रवाई के दौरान मौके पर प्रशासन द्वारा सशस्त्र बलों की जवानों की ड्यूटी लगाई।  कार्रवाई के दौरान बाहर भीड़ बढऩे पर दुकान के कर्मचारियों द्वारा शोरूम की शटर बंद करने की कोशिश की लेकिन अधिकारियों ने ऐसा करने से रोक दिया। बहरहाल छापे की कार्रवाई देर रात तक चलती रह।  मीडिया को सिर्फ इतना बताया गया कि यह कार्रवाई विभागीय सर्वे के तहत की गई है। इस दौरान आयकर विभाग द्वारा स्टॉक, कैश तथा सेल की जांच की जाती है। इसमें गड़बड़ी पाए जाने पर कार्रवाई की जाती है। फिलहाल दस्तावेजों का परीक्षण चल रहा है।
Posted by jasika lear, Published at 06.36

Tidak ada komentar:

Posting Komentar

Copyright © THE TIMES OF CRIME >