प्रदेश टुडे प्रबंधन का पत्रकार संगठन (आइसना ) क्या उखाड लेगा : सतीश पिम्पले

प्रदेश टुडे प्रबंधन का पत्रकार संगठन (आइसना ) क्या उखाड लेगा : सतीश पिम्पले

* प्रदेश टुडे भोपाल ने (आइसना ) संगठन की राशि पैतालीस हजार रू. हड़पी,  ढाई वर्ष बाद भी  कोई कार्यवाही नहीं

* पैतालीस हजार रूपये लेकर बेईमान हुये प्रदेश टुडे प्रबंधन के सी.ई.ओ. सतीश पिम्पले

* ऑल इण्डिया स्माल न्यूज पेपर्स ऐसोसिएशन (आइसना ) संगठन विज्ञापनदाता के साथ धोखाधड़ी

* एम.पी. नगर थाने में शिकायत पर ढाई वर्ष बाद भी  कोई कार्यवाही नहीं ।

भोपाल से विनय जी. डेविड कि रिपोर्ट 
toc news internet channel


भोपाल। समाचार पत्रों के नाम को कलंकित करने वाले लोगों की कमी नही है। समाचार पत्रों की आड़ में खेल खेलने वाले समाचार पत्रों के प्रबंधको ने अपनी औकात दिखा दी है। वाक्या बड़ा मजेदार और धोखाधड़ी का है ये कारनामा कर दिखाया है प्रदेश टुडे के सी.ई.ओ. सतीश पिम्पले ने जो अपने आपको तुरमखां समझ रहे है। दिनांक 11 सितम्बर 2011 को भोपाल में ऑल इण्डिया स्माल न्यूज पेपर्स ऐसोसिएशन  (अइसना ) संगठन का राष्ट्रीय पत्रकारिता सम्मान समारोह ''संघर्ष 2011'' था जिसमें देश प्रदेश से आये पत्रकारों को शुभकामनाओं दी गयी थी जिसका विज्ञापन प्रदेश टुडे को 11 सितम्बर 2011 को अन्तिम पृष्ठ पर प्रकाशित करने के लिये पैतालीस हजार का विज्ञापन दिया गया था। जिसका भुंगतान नगद विभूति को कर दिया गया और प्रदेश टुडे की 300 प्रतियां का आर्डर किया गया था।

प्रदेश टुडे में उक्त विज्ञापन का प्रकाशन नही किया और जब दूसरे दिन विज्ञापन राशि वापस करने से मना कर दिया। दिनांक 21.09.2011 को जब नितिन दुबे जिसने विज्ञापन बुक किया था बात की तो उन्होंने सी.ई.ओ. सतीश पिम्पले के कार्यालय बुलाया। जिस पर संस्थान के अध्यक्ष अवधेश भार्गव एवं महासचिव विनय डेविड रूपये वापस लेने गये तो पिम्पले गंदी-गंदी गालियां देते हुए धमकाया की विज्ञापन नही छापा तो क्या हुआ, हम पैसे वापस नहीं करेंगे। इतना बुरा व्यवहार किया गया जो पत्रकार होने के नाते असहनीय था। कुछ देर बाते करने पिम्पले बोला ठीक है कल फोन पर बात करना मैं मैनेजमेन्ट से बात कर पैसे वापस कर दूंगा। परन्तु अगले दिन 22.09.2011 को जब अवधेश भार्गव ने पिम्पले के मोबाइल पर बात की तो वही सुर दोहराते हुए पैसे वापस नहीं करूंगा तुमको जो बने वो करलो और धमकाने लगा। जिसकी पूर्ण मोबाइल वार्ता रिकॉडिंग अवधेश भार्गव के पास सुरक्षित है।

उक्त पैतालीस हजार रूपये "ऑल इण्डिया स्माल न्यूज पेपर्स ऐसोसिएशन" (अइसना ) संगठन संस्थान का है जिसको वापस प्राप्त करने और अपराधिक कृत्य, धोखाधड़ी एवं धमकाने तथा पैसे लेकर विज्ञापन न छापने तथा अड़ीबाजी करने कर प्रकरण दर्ज कर कार्यवाहीं के लिए ऑल इण्डिया स्माल न्यूज पेपर्स ऐशोसिएशन ने थाना एम.पी.नगर में थाना प्रभारी को शिकायत दर्ज करवा दी थी, और प्रदेश टुडे के सी.ई.ओ. सतीश पिम्पले सहित विज्ञापन संकलनकत्र्ता अवस्थी एवं नितिन दुबे रूपये लेने वाले विभूति के खिलाफ वैधानिक कार्यवाही करने की मांग की है। जिस पर थाना एम.पी.नगर ने 28 सितम्बर 2011 को कई पत्रकारों के बयान दर्ज किये हैं वही "प्रदेश टुडे"  के उक्त षडय़ंत्रकारियों को नोटिस जारी किया था । परन्तु एम.पी.नगर थाने में शिकायत पर ढाई वर्ष बाद भी कोई कार्यवाही नहीं । पत्रकार हितों के लिए इकठ्ठा कि गई रकम को इन लुटेरों ने हड़प ली. और डकार भी नहीं ली.



Posted by jasika lear, Published at 01.20

Tidak ada komentar:

Posting Komentar

Copyright © THE TIMES OF CRIME >