हाईटेक कलैक्टर बी.चन्द्रशेखर के तबादले के विरोध में पूरा जिला बंद

हाईटेक कलैक्टर बी.चन्द्रशेखर के तबादले के विरोध में पूरा जिला बंद

बैतूल के बाद बालाघाट में भाजपाईयों से पंगा लेना अच्छा लगता है 
toc news internet channel

बालाघाट, (रामकिशोर पंवार ): सीएम हाऊस के करीबी एवं मुख्यमंत्री शिवराज सिंह की ससुराल गोंदिया के मूल निवासी बी. चन्द्रशेखर मध्यप्रदेश के उन गिने चुने कलैक्टरो में शुमार है जिनको सत्ताधारी प्रदेश सरकार के नेताओं एवं जनप्रतिनिधियों से पंगा लेना अच्छा लगता है। इमानदार एवं हाईटेक कलैक्टर के रूप में आदर्श बैतूल के बाद आदर्श बालाघाट की सुखद कल्पना से प्रेरित होकर प्रदेश के मुखिया बैतूल एवं बालाघाट को आदर्श जिला बनाना चाहते है।

जैसे ही कलैक्टर के तबादले की $खबर बाजार में आई पूरा बालाघाट जिला सड़क पर उतर आया। पूरे जिले ने कलैक्टर के तबादले को भाजपा नेताओं एवं जनप्रतिनिधियों की कारस्तानी बताने में कोई कोर कसर नहीं छोड़ी। बैतूल जिले से पांचो विधानसभा चुनाव में कलैक्टर बी.चन्द्रशेखर की मौजूदगी में हार जाने का डर बता कर बैतूल के भाजपा नेता कलैक्टर का बैतूल से तबादला करवाने में सफल रहे लेकिन कलैक्टर का भाजपा के नेताओं को ठीक करने का कार्यक्रम बंद नहीं हुआ। बैतूल के बाद अब बालाघाट के भी नेताओं ने लोकसभा सीट हार जाने का डर बता कर कलैक्टर बी.चन्द्रशेखर का तबादला तो करवा दिया लेकिन कलैक्टर के पक्ष में पूरा बालाघाट जिला सड़क पर उतर आया। 

जहां एक ओर बालाघाट जिले में मेडिकल कालेज न खोलने एवं बालाघाट के मौजूदा कलैक्टर बी.चन्द्रशेखर की कार्य प्रणाली को लेकर वैसे भी वहां से केबिनेट मंत्री गौरीशंकर बिसेन की मुख्यमंत्री शिवराज सिंह से जबरदस्त भिडंत हो गई है। वही दुसरी ओर संघ के सबसे करीबी कहे जाने वाले गौरीशंकर बिसने से इस पूरे मामले में अपनी पगड़ी की इज्जत न रखने पर शिवराज सिंह से दो - दो हाथ करने का मन बना लिया है। इस बार के लोकसभा चुनाव में यदि गौरीशंकर बिसेन खुल कर सामने आ गए तो बालाघाट, सिवनी , बैतूल, गोंदिया, भण्डारा, छिन्दवाड़ा सीटो पर भाजपा को करारी शिकस्त दिला सकते है। 

उक्त सभी जिले गौरीशंकर बिसेन के स्वजाति पंवार समाज बाहुल्य है। इधर कलैक्टर के तबादले के बाद भी वे कुर्सी छोडऩे को तैयार नहीं है वहीं दुसरी ओर बैतूल से भाजपा विधायक हेमंत खण्डेलवाल ने भी बी.चन्द्रशेखर को दुग्ध संघ एवं सहकारिता विभाग में भेजे जाने के निर्णय का विरोध किया है। हेमंत खण्डेलवाल दुग्ध संघ के संचालक मण्डल के सदस्य भी है तथा उनसे पूर्व बैतूल कलैक्टी बी.चन्द्रशेखर से जबरदस्त भीडंत हो चुकी है। हेमंत खण्डेलवाल की पहल पर पूरी जिला भाजपा , सासंद तथा विधायको ने कलैक्टर के तबादले के लिए स्तीफे की धमकी दे डाली थी। 

प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान बैतूल एवं बालाघाट जिले के भाजपा नेताओं को कई बार नसीहत दे चुके है कि वे बी.चन्द्रशेखर से किसी भी प्रकार का पंगा न ले तथा किसी भी नियम विरूद्ध कार्य के लिए दबाव न बनाए लेकिन दोनो जिले के भाजपा नेताओं का स्वार्थ कहीं न कहीं टकराव की स्थिति को पैदा कर देता है। बैतूल एवं बालाघाट जिला का आम जनमानस कलैक्टर बी.चन्द्रशेखर की कार्यप्रणाली से बेहद प्रसन्न है। वैसे देखा जाए तो बैतूल से बी.चन्द्रशेख की कलैक्टर के रूप में बिदाई के बाद उनकी बहुचर्चित जनसुनवाई में लोगो की भीड़ कम होने लगी क्योकि मौजूदा कलैक्टर जन सामान्य में वैसा विश्वास हासिल नहीं कर पाए। बालाघाट में भी उनकी जनसुनवाई में उमड़ती भीड़ से जिले के भाजपा नेताओं को अपने गिरते जनाधार से खतरा उत्पन्न होने लगा। 

जिले की जनता नेताओं के चक्कर लगाने के बदले सीधे कलैक्टर से ही संवाद करने लगी जिसके चलते पूरे बालाघाट जिले में बी.चन्द्रशेखर कलर्स टीवी सीरियल के बालिका वधु के जैत्सर के कलैक्टर शिवराज शेखर की तरह लोकप्रिय हो गए है। अब देखना बाकी है कि कलैक्टर के तबादले के विरोध में बालाघाट का जन आन्दोलन क्या गुल खिलाता है।
Posted by jasika lear, Published at 04.08

Tidak ada komentar:

Posting Komentar

Copyright © THE TIMES OF CRIME >