रिश्वत लेते पकड़ी गई, इनकम टैक्स की डिप्टी कमिश्नर

रिश्वत लेते पकड़ी गई, इनकम टैक्स की डिप्टी कमिश्नर

डॉ. पुरुषोत्तम मीणा 'निरंकुश'
toc news internet channel

भोपाल !  केंद्रीय जांच ब्यूरो .सीबीआई. ने आज यहां आयकर विभाग की एक महिला अधिकारी पूनम राय और उसके पति गणेश को दस लाख रूपयों की रिश्वत लेते हुए रंगे हाथों गिरफतार कर लिया। 

इनकम टैक्स की डिप्टी कमिश्नर पूनम राय और उनके पति भाजपा नेता गणेश मालवीय सहित पांच लोगों को शुक्रवार रात सीबीआई ने दस लाख रुपए की रिश्वत लेते गिरफ्तार किया. सीबीआई ने भरत नगर (शाहपुरा) स्थित इनकम टैक्स कॉलोनी में 2007 बैच की आईआरएस अफसर पूनम के घर पर ही यह कार्रवाई की. जैसे ही मालवीय का कर्मचारी रुपए लेकर घर पहुंचा, सीबीआई टीम ने उसे दबोच लिया. वह एक चार्टर्ड अकाउंटेंट के एमपी नगर स्थित दफ्तर से रिश्वत की रकम लेकर आया था. सेंट्रल इंडिया में इनकम टैक्स अधिकारी पर की गई यह अब तक की सबसे बड़ी कार्रवाई मानी जा रही है. सीबीआई रात 12 बजे तक पूनम से पूछताछ करती रही.

सीबीआई अधिकारियों ने बताया कि रामायण कंस्ट्रक्शन कंपनी के अधिकारियों को इनकम टैक्स रिटर्न में गड़बड़ी को ठीक करने के लिए डिप्टी कमिश्नर ने 25 लाख रुपए की रिश्वत मांगी थी. बिल्डर ने इसकी शिकायत सीबीआई को की थी.

महिला अफसर के पति गणेश मालवीय ने इसमें मध्यस्थता की और सौदा 18 लाख रुपए में तय किया था. इसकी पहली किस्त 10 लाख रुपए शुक्रवार शाम को एमपी नगर स्थित एक चार्टर्ड अकाउंटेंट के दफ्तर में दी गई थी. सीए और उसका भतीजा जब दफ्तर में यह रकम गिन रहे थे, तभी वहां सीबीआई अधिकारी पहुंच गए. इसी दौरान वहां रिश्वत की रकम लेने के लिए मालवीय के एनजीओ मृत्युंजय का कर्मचारी संजय पहुंचा. सीबीआई अधिकारियों ने खुद को सीए ऑफिस का कर्मचारी बताकर उससे पूछा कि वह रकम कैसे ले जाएगा? संजय ने कहा कि कुछ ही देर में गणेश भैया का फोन आएगा. कुछ देर बाद गणेश ने फोन संजय से रकम लेकर घर आने को कहा. सीबीआई अधिकारियों ने संजय की बाइक पर अपना एक गवाह बिठा दिया. संजय जैसे ही यह रकम लेकर घर पहुंचा, वहां दूसरी टीम ने गणेश को यह रकम लेते हुए रंगे हाथों दबोच लिया.

सीबीआई की इस कार्रवाई के दौरान डिप्टी कमिश्नर दफ्तर में ही थीं. जैसे ही रिश्वत की रकम घर पहुंची, सीबीआई की एक टीम इनकम टैक्स दफ्तर पहुंची और पूनम से पूछताछ शुरू कर दी. रात 12 बजे तक उनसे दफ्तर में ही पूछताछ चलती रही. इसके बाद उन्हें सीबीआई अधिकारी उनके घर लेकर गए. इस संबंध में जब इनकम टैक्स कमिश्नर एससी सोनकर से बात करने की कोशिश की गई तो उनसे संपर्क नहीं हो सका.

बड़ा सर्कल था पूनम राय के पास

सीबीआई सूत्रों ने बताया कि पूनम राय दो सालों से इनकम टैक्स के 1(1) सर्किल की प्रभारी थीं. इस सर्किल में 74 बंगला, शिवाजी नगर सहित नए शहर का अहम हिस्सा आता है. टैक्स असेसमेंट की आखिरी तारीख 31 मार्च है.

सीए का कर्मचारी बनकर बैठी थी सीबीआई

इनकम टैक्स की डिप्टी कमिश्नर पूनम राय और उनके पति गणेश मालवीय को रंगेहाथ दबोचने के लिए सीबीआई की टीम को लंबी तैयारी करनी पड़ी. शुक्रवार सुबह 11 बजे एफआईआर करने के बाद टीम लगातार दोनों की दिनचर्या पर नजर रखे हुए थी. रामायण कंस्ट्रक्शन की ओर से जैसे ही पहली किश्त में दस लाख रुपए रिश्वत के तौर पर एमपी नगर स्थित चार्टर्ड अकाउंटेंट के दफ्तर पहुंचाई गई, टीम ने दबिश दे दी. इसके बाद सीबीआई टीम के सदस्य सीए के कर्मचारी बनकर उसके दफ्तर में बैठ गए. तभी रकम लेने आए गणेश के एनजीओ के कर्मचारी को भी टीम ने दबोच लिया.

सीबीआई सूत्रों के मुताबिक पूनम राय और गणेश द्वारा रिश्वत मांगे जाने की सूचना दो दिन पहले दिल्ली सीबीआई की विजिलेंस टीम को मिली थी. इसके बाद यह सूचना भोपाल सीबीआई को दी गई. दो दिन पहले से ही सीबीआई की टीम ने पूनम के फोन कॉल पर नजर रखनी शुरू कर दी थी. इनकम टैक्स दफ्तर, सीए के दफ्तर और पूनम के मकान पर शुक्रवार को सीबीआई की तीन अलग-अलग टीमों ने कार्रवाई की. टीम ने जब उनके घर पर दबिश दी तो इस दौरान गणेश के अलावा उनकी चार महीने की बेटी और दो नौकरानियां भी मौजूद थीं.

खाना लेकर पहुंचे अफसर: कार्रवाई लंबी चलनी थी, लिहाजा सीबीआई की एक टीम खाना लेकर पूनम के मकान पर पहुंची. टीम के सभी सदस्यों को  खाना दिया गया. टीम की कार्रवाई देखकर आयकर कॉलोनी के लोग भी घर से बाहर निकल आए. हालांकि, गणेश के बारे में पूछने पर उनमें से कोई नहीं बोला.

आधी रात में पूनम को लेकर घर पहुंची टीम: टीम ने जब पूनम के घर पर दबिश दी तो वह अपने दफ्तर में थीं. इसका पता चलते ही तीसरी टीम इनकम टैक्स दफ्तर पहुंच गई. यहां उनसे इस मामले से जुड़े सवाल-जवाब करने के बाद टीम ने रामायण कंस्ट्रक्शन से जुड़े कुछ दस्तावेज भी चेक किए. करीब तीन घंटे तक चली पूछताछ के बाद शुक्रवार रात करीब साढ़े 12 बजे सीबीआई की टीम पूनम को लेकर उनके घर पहुंची.
Posted by jasika lear, Published at 01.14

Tidak ada komentar:

Posting Komentar

Copyright © THE TIMES OF CRIME >