मप्र : राजस्व विभाग के ज्वाइंट कमिश्नर रविकांत द्विवेदी के घर लोकायुक्त का छापा - 70 करोड़ की सम्पत्ति

मप्र : राजस्व विभाग के ज्वाइंट कमिश्नर रविकांत द्विवेदी के घर लोकायुक्त का छापा - 70 करोड़ की सम्पत्ति

toc news internet channel

भोपाल। लोकायुक्त स्थापना की विशेष पुलिस दल ने गुरुवार की सुबह मध्यप्रदेश सरकार के प्रमुख सचिव राजस्व कार्यालय में पदस्थ संयुक्त आयुक्त डॉ. रविकांत द्विवेदी के यहां आय से अधिक सम्पत्ति के एक मामले में छापामार कार्रवाई कर लगभग 60 से 70 करोड़ रुपए की सम्पत्ति का पता लगाया है। सूत्रों के मुताबिक लोकायुक्त को रविकांत द्विवेदी की दर्जन भर संपत्तियों की जानकारी मिली।

लोकायुक्त पुलिस सूत्रों ने बताया कि पुख्ता सूचना के आधार पर आय से अधिक सम्पत्ति अर्जित करने के मामले में उसकी टीम ने आज सुबह डॉ. द्विवेदी के गुलमोहर कॉलोनी स्थित आवास पर छापा मारा, उस समय द्विवेदी परिवार घर पर ही थे।

उन्होंने कहा कि दोपहर तक लगभग 50 करोड़ रुपए की अघोषित सम्पत्ति का पता लगाया जा चुका था और कई महत्वपूर्ण दस्तावेज जब्त किए गए, लेकिन जिस तरह दस्तावेजों का खुलासा हो रहा है, यह आंकड़ा 60 से 70 करोड़ तक पहुंचेगा। छापे की कार्रवाई अभी जारी है।

सूत्रों ने बताया कि डॉ. द्विवेदी के घर से दस बैंक खातों के अलावा बैंक लॉकर और बीमा कंपनियों में निवेश के दस्तावेज मिले हैं। लॉकर संभवत: कल खुलवाए जाएंगे। उनके यहां से जमीनों, भूखण्डों और दुकानों सहित 22 स्थानों पर चल-अचल सम्पत्ति का खुलासा भी हुआ है।

लोकायुक्त पुलिस का कहना है कि अभी कार्रवाई चल रही है। ज्वाइंट कमिश्नर की एक दर्जन से ज्यादा संपत्तियों के बारे में जानकारी मिली है, इनमें होटल भी शामिल हैं।द्विवेदी के ठिकाने से लोकायुक्त दल को 10 से ज्यादा संपत्तियों के दस्तावेज मिले हैं |

इन दस्तावेजों के जरिए द्विवेदी का एक होटल व एक फैक्ट्री होने का भी पता चला है |लोकायुक्त के अधिकारियों के मुताबिक द्विवेदी के आवास से जो दस्तावेज मिले हैं, उनके आधार पर संपत्तियों का पता किया जा रहा है | शुरुआती जांच में करोड़ों की संपत्ति का आकलन किया गया है |

गौरतलब है कि द्विवेदी वर्ष 1987 बैच के डिप्टी कलेक्टर हैं। वह दतिया सहित कई शहरों में डिप्टी कलेक्टर रह चुके हैं। इसके बाद वह पाठ्य पुस्तक निगम और गैस राहत विभाग में भी पदस्थ रहे। उनका प्रतिमाह वेतन एक लाख रुपए के आसपास है।
Posted by jasika lear, Published at 06.54

Tidak ada komentar:

Posting Komentar

Copyright © THE TIMES OF CRIME >