गैस रेगूलेटर बदलने के नाम पर मांगे जाते रूपए

गैस रेगूलेटर बदलने के नाम पर मांगे जाते रूपए

छतरपुर गैस एजेंशी संचालक पर लगे आरोप, 
उदय शर्मा ने खाध अधिकारी से की शिकायत

छतरपुर // इमरान खान 
 toc news internet channel 

छतरपुर। जवाहर रोड छतरपुर में संचालित छतरपुर गैस एजेंशी संचालक की करतूतंे अब किसी से छिप नहीं रही है। एजेंशी संचालक द्वारा रेगुलेटर बदलने के नाम पर भी अवैध रूप से पैसे मांगे जाने का सनसनीखेज मामला प्रकाश में आया है। एजेंशी संचालक की मनमानी और बदसलूकी के शिकार उपभोक्ता उदय शर्मा ने पूरे मामले की शिकायत खाध अधिकारी से की है। उदय शर्मा ने बताया कि खाध विभाग के अधिकारी यदि इस मामले में कार्यवाही नहीं करते है, तो वे न्याय पाने अदालत का दरवाजा खटखटा सकते है, वहीं खाध विभाग के अधिकारी पूरे मामले में कार्यवाही करने की बात कह रहे है।

छतरपुर निवासी उपभोक्ता उदय शर्मा ने जानकारी देते हुए बताया कि उनका जवाहर रोड स्थित सर्किट हाउस तिराहे में संचालित छतरपुर गैस एजेंशी में कनेक्शन है। उदय के मुताबिक कनेक्शन देने के एवज में एजेंशी संचालक द्वारा उनसे सात हजार रूपए बसूले गए, जबकि उन्हें रसीद मात्र तीन हजार रूपए की थमायी गयी। उदय ने बताया कि एजेंशी संचालक की इस तानाशाही से परेशान होने के बाद वह आर्थिक और मानसिक रूप से टूट चुका था।

छतरपुर निवासी उदय शर्मा के मुताबिक रेगूलेटर खराब होने के बाद एक बार फिर वह छतरपुर गैस एजेंशी के संचालक के पास पहुंचा और रेगूलेटर बदलने की बात कही। उदय द्वारा जब रेगूलेटर बदले जाने की बात की जा रही थी, तभी एजेंशी कर्मचारी भडक गए और वे बदसलूकी करने लगे। कर्मचारियों ने कनेक्शन के समय लगाए जाने वाले दस्तावेजों की मांग की,, दस्तावेज उपलब्ध न कराने की स्थिति में एजेंशी संचालक ने अभद्रता करते हुए पांच सौ रूपए देने की मांग की। एजेंशी संचालक की करतूतों का राजफाश करते हुए क्या कहा उदय शर्मा ने आइए सुनते है, उन्हीं की जुवानी।

एजेंशी संचालक की तानाशाही से परेशान उदय आर्थिक और मानसिक रूप से टूट चुका था। उदय न्याय पाने के इरादे से पूरे मामले की शिकायत खाघ अधिकारी छतरपुर को की है। उदय को उम्मीद है कि खाध विभाग के अधिकारी मामले में दखल देकर न्याय दिलाने का काम करेंगें। तत्संबंध में खाध अधिकारी से बात की तो वे अनुउलब्ध रहे। उदय शर्मा ने व्ही न्यूज को बताया कि छतरपुर गैस एजेंशी संचालक की करतूतों से वह आर्थिक और मानसिक रूप से परेशान हो चुके है। कनेक्शन देने के नाम पर अवैध रूप से पैसे मांगे जाने के बाद उदय टूट चुका था, और उसने मामले में न्याय पाने खाध अधिकारी से शिकायत की।

उदय ने बताया कि शिकायत के बाद भी यदि छतरपुर गैस एजेंशी संचालक के खिलाफ कोई कार्यवाही नहीं होती है, तो वे उपभोक्ता फोरम की शरण लेंगें। ऐसा नहीं कि छतरपुर में गैस एजेंशी संचालकों की कारिस्तानियां उपभोक्ता उदय शर्मा तक ही सीमित हों, जिले के अन्य उपभोक्ता भी एजेंशी संचालक की मनमानी का शिकार हो रहे है। उपभोक्ता यदि अपने अधिकारों के प्रति जागरूक होकर ऐसे एजेंशी संचालक के खिलाफ मोर्चा खोलें तो छतरपुर शहर में गैस एजेंशी संचालक की करतूतों को बेनकाव किया जा सकता है, उदय ने खाघ विभाग के अधिकारी एजेंशी का रिकार्ड जप्त कर इसकी जांच कराने की भी मांग की है।

Posted by jasika lear, Published at 02.14

Tidak ada komentar:

Posting Komentar

Copyright © THE TIMES OF CRIME >