फ्रेंडशिप डे: प्रेमी ने प्रेमिका को चलती ट्रेन से धकेला

फ्रेंडशिप डे: प्रेमी ने प्रेमिका को चलती ट्रेन से धकेला

toc news internet channel

गोईलकेरा. प्रेमी ने प्रेमिका को जान से मारने की नीयत से महादेवशाल अप सुरंग में चलती ट्रेन से धक्का दे दिया। युवती चलती ट्रेन से सुरंग में गिरने के बाद भी बच गई। जानकारी के अनुसार चक्रधरपुर के हुडांगदा निवासी इंद्रजीत सोय की 22 वर्षीय लड़की नीलमुनी सोय का चक्रधरपुर के किशनोपुर गांव निवासी महेन्द्र सुन्डी के 40 वर्षीय बेटे बुधराम सुन्डी से पिछले चार वर्षो से प्रेम संबंध था।

उसी दरम्यान दोनों के बीच शारीरिक संबंध बन गए और नीलमुनी के पांच माह के गर्भ से हो जाने पर प्रेमी बुधराम सुन्डी पर विवाह के लिए जोर देने पर बुधराम सुन्डी ने अपने घर में किसी के इस विवाह के लिए राजी नहीं होने की बात कहकर नीलमुनी को घर से भाग जाने की बात कही। नीलमुनी भी बुधराम के साथ भागने को तैयार हो गई और दोनों रविवार की सुबह चक्रधरपुर से अप सारंडा पैसेंजर से राउरकेला के लिए निकले। परंतु बुधराम सुन्डी के दिमाग में कुछ और ही चल रहा था। मेला पैसेंजर जैसे ही महादेवशाल स्टेशन से आगे बढ़ी तो उसने नीलमुनी को सुरंग दिखाने के बहाने ट्रेन के गेट पर ले गया और जैसे ही ट्रेन ने अप सुरंग में प्रवेश किया उसी समय बुधराम सुन्डी ने नीलमुनी को पीछे से धक्का दे दिया। गिरते समय नीलमुनी ने ट्रेन के पांवदान को पकड़ लिया और घिसटते हुए ट्रेन के साथ कुछ दूर गई और बेहोश होकर नीचे गिर गई।

बुधराम नीलमुनी को मरा हुआ समझकर ट्रेन से आगे चला गया। सुबह 7.40 मिनट पर डीटीएम 17 का की-मैन कुंजबिहारी मेरल ने अप सुरंग से गुजरते समय खंभा नम्बर 351/39-41 के पास घायल अवस्था में नीलमुनी को देखा। और इसकी खबर टीडब्ल्यूएस एसके दत्ता को देने के बाद नीलमनी को सुरंग से निकालकर अप सुरंग के मुहाने पर लाकर। इसकी खबर गोईलकेरा स्टेशन को दी। जिसके बाद युवती को एम्बुलेंस से गोईलकेरा रेफरल अस्पताल इलाज कराया जा रहा है। डाक्टर ने बताया कि युवती के दोनों पैर गंभीर रूप से जख्मी हैं। युवती के घायल होने की खबर उसके परिजन को दे दी गयी है युवती के पास से प्रेमी का इंटर का मार्कशीट, प्रेमपत्र, रुपये मिले हैं। लड़की के फर्द बयान पर जीआरपी थाने में मामला दर्ज कर लिया गया है।
Posted by jasika lear, Published at 04.23

Tidak ada komentar:

Posting Komentar

Copyright © THE TIMES OF CRIME >