'84 कदम' भी नहीं निकल पाई

'84 कदम' भी नहीं निकल पाई

'84 कदम' पर ही थमी परिक्रमा, आजम ने संतों को कहा 'शुक्रिया'
अशोक सिंघल लखनऊ एयरपोर्ट पर हिरासत में लिए गए 
toc news internet channel

अयोध्या/लखनऊ। विश्व हिंदू परिषद (वीएचपी) की अयोध्या की 84 कोसी परिक्रमा रविवार को '84 कदम' भी नहीं निकल पाई। इस विवादास्पद यात्रा से पहले दिन अधिकतर साधु-संत दूर ही दिखे। यूपी सरकार ने भी इस पर राहत की सांस ली। यूपी के शहरी विकास मंत्री आजम खान ने वीएचपी की परिक्रमा यात्रा में 'सहयोग' न करने के लिए साधु-संतों का शुक्रिया अदा किया। इससे पहले रविवार सुबह अयोध्या से जैसे ही यात्रा शुरू हुई, वीएचपी के बड़े नेताओं अशोक सिंघल, प्रवीण तोगड़िया, महंत नृत्यगोपाल दास, पूर्व सांसद राम विलास वेदांती समेत 1696 लोगों को हिरासत में ले लिया गया। सभी को 14 दिन तक हिरासत में रखा जाएगा।

वीएचपी नेता अशोक सिंघल ने परिक्रमा को रोकने पर अखिलेश सरकार पर सुल्तानों की तरह निरंकुश होकर काम करने का आरोप लगाया है। सिंघल ने कहा कि यह परिक्रमा नहीं रुकेगी और इसमें भाग लेने के लिए देश भर से साधु संतों के अयोध्या पहुंचने का सिलसिला जारी रहेगा। अयोध्या जाने के लिए दिल्ली से लखनऊ के चौधरी चरण सिंह एयरपोर्ट पर पहुंचते ही गिरफ्तार कर लिए जाने के बाद सिंघल ने कहा, 'अब यह परिक्रमा रुक नहीं सकती। परिक्रमा में भाग लेने के लिए देश के लगभग 700 जिलों से साधु संतों के अयोध्या पहुंचने का सिलसिला जारी रहेगा। प्रदेश सरकार को अपने निर्णय पर पुनर्विचार करते हुए परिक्रमा पर लगे प्रतिबंध को खत्म कर देना चाहिए।' उन्होंने कहा कि सरकार के प्रतिबंध के बावजूद परिक्रमा शुरू हो गई, यह परिक्रमा मार्ग पर 40 पड़ाव पर ठहरते हुए पूर्व घोषित कार्यक्रम के अनुसार 13 सितंबर तक जारी रहेगी जिसमें देश के सभी राज्यों से आने वाले संत महात्मा शामिल होंगे।

दिल्ली में एसपी दफ्तर के बाहर प्रदर्शनः 
अयोध्या में विश्व हिंदू परिषद (वीएचपी) की 84 कोसी परिक्रमा को रोकने और अशोक सिंघल, प्रवीण तोगड़िया समेत कई नेताओं को हिरासत में लिए जाने पर हिंदू सेना के कार्यकर्ताओं ने रविवार दोपहर दिल्ली में समाजवादी पार्टी के दफ्तर पर धावा बोल दिया। रविवार दोपहर हिंदू सेना के कुछ कार्यकर्ता कॉपरनिकस लेन स्थित एसपी के केंद्रीय कार्यालय पहुंचे। उन्होंने नारेबाजी की और वहां गेट के दोनों तरफ लगे बोर्ड तहस-नहस कर दिए।

सरयू पूजन करने में रहे कामयाबः 
अयोध्या में तमाम सुरक्षा उपायों को धता बताकर वीएचपी के कुछ कार्यकर्ता सरयू पूजन करने में सफल रहे। उन्होंने संकल्प लिया, लेकिन परिक्रमा शुरू करने से पहले ही पुलिस ने अरेस्ट कर लिया। बता दें कि परिक्रमा की शुरुआत सरयू पूजन से ही होने वाली थी। रामजन्भूमि न्यास समिति के अध्यक्ष महंत नृत्य गोपालदास ने मणिराम छावनी (अखाड़ा) से यात्रा शुरू की, लेकिन पुलिस ने उन्हें हिरासत में ले लिया। गोपालदास ने कहा, 'हमने यात्रा शुरू कर दी है। लेकिन, इस यात्रा का राजनीतिकरण नहीं किया जाना चाहिए। यह यात्रा बारहों महीने चलती है।' इस बीच कांग्रेस के महासचिव दिग्विजय सिंह ने इसे फिक्स मैच करार दिया है।

चकमा देकर अयोध्या पहुंचे तोगड़िया गिरफ्तार: 
84 कोसी परिक्रमा में भाग लेने पहुंचे वीएचपी नेता प्रवीण तोगड़िया को भी रविवार को गिरफ्तार कर लिया गया। पुलिस और प्रशासन को चकमा देकर तोगड़िया शनिवार की रात अयोध्या पहुंच गए थे। पुलिस को सर्विलांस के जरिए उनके अयोध्या पहुंचने की जानकारी हुई। वह अपने समर्थकों के साथ रविवार की सुबह 10 बजे जैसे ही गोलाघाट की ओर रवाना हुए, मौके पर मौजूद सुरक्षा बलों ने उन्हें उनके समर्थकों के साथ गिरफ्तार कर लिया।

तोगड़िया ने लगाया फोन छीनने का आरोपः 
वीएचपी नेता प्रवीण तोगड़िया ने आरोप लगाया है कि उन्हें जबरन फैजाबाद जेल में ले जाया गया है। तोगड़िया ने शाम को जारी एक संदेश में कहा, 'मुझे अचानक जबरन फैजाबाद गेस्ट हाउस ले जाया जा रहा है। सुबह से मुझे और रामविलास वेदांती को सरकारी गेस्ट हाउस में रखा गया था और लोगों से फोन पर बातचीत करने दी जा रही थी। अब मुझे जबरन फैजाबाद जेल ले जाया जा रहा है और हमारे सभी फोन छीने जा रहे हैं।'

लखनऊ में अशोक सिंघल गिरफ्तार: 
वीएचपी के सीनियर नेता अशोक सिंघल को लखनऊ एयरपोर्ट से गिरफ्तार कर लिया गया। गिरफ्तारी के बाद मीडिया से बातचीत करते हुए सिंघल ने कहा कि सोमवार से देश के हर जिले में धरना का कार्यक्रम आयोजित किया जाएगा। उन्होंने कहा कि इसके खिलाफ देश भर एक बड़ा आंदोलन खड़ा किया जाएगा। गिरफ्तार प्रमुख लोगों में सावित्री फूले, वीएचपी के प्रांतीय समन्वयक आचार्य कुशमुनि और महंत संतोष दास शामिल हैं। वीएचपी के जाने माने नेता महंत राम सरन को अयोध्या में राम स्नेही घाट से गिरफ्तार किया गया। अमेठी में सागर आश्रम के पीठाधीश्वर अभय चैतन्य मौनी महराज को ऐहतियात के तौर पर नजरबंद कर दिया गया।

वेदांती, रामचंद्र को भी पकड़ा: 
यात्रा शुरू होने से पहले पूर्व बीजेपी सांसद रामविलास वेदांती और वर्तमान विधायक रामचंद्र यादव को गिरफ्तार किया गया। वेदांती को रविवार की सुबह करीब 7 बजे उस वक्त गिरफ्तार किया गया जब वह अपने घर से परिक्रमा के लिए रवाना हुए। विधायक रामचंद्र यादव को भी गिरफ्तार कर लिया गया।

अयोध्या का मैच फिक्स है: दिग्विजय: 
अपने विवादित बयानों के लिए मशहूर कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह ने भी अयोध्या मुद्दे पर बयान दे ही दिया है। इस मुद्दे पर दिग्विजय ने ट्वीट किया, 'क्या अयोध्या का मैच फिक्स है?' हालांकि, दिग्विजय ने यह नहीं लिखा है कि मैच फिक्सिंग में कौन-कौन शामिल हैं। पर, उनका इशारा समाजवादी पार्टी और बीजेपी की तरफ है।

सुरक्षा के कड़े इंतजाम: 
अयोध्या में प्रमुख नेताओं की गिरफ्तारी के लिए फैजाबाद के जिलाधिकारी तथा सीनियर पुलिस अधीक्षक की अगुवाई में एक टीम ने बीती रात स्थानीय कारसेवकपुरम स्थित विहिप के स्थानीय मुख्यालय, मणिराम छावनी, महन्त नृत्य गोपाल दास के राम जन्मभूमि ट्रस्ट तथा विहिप कार्यकर्ताओं की मौजूदगी की आशंका वाले ठिकानों पर तलाशी ली।

फैजाबाद के डीएम ने कहा कि हम ऐसे प्रमुख वीएचपी नेताओं की गिरफ्तारी कर रहे हैं जो चौरासी कोसी परिक्रमा के नाम पर कानून-व्यवस्था के लिए समस्या खड़ी कर सकते हैं।' गृह विभाग के प्रवक्ता ने बताया कि बहराइच में 16, बाराबंकी में 12, फैजाबाद में 10, अम्बेडकरनगर में 5, गोंडा में 3 तथा बस्ती में 2 अस्थायी जेलें बनाई गई हैं। उन्होंने बताया कि संबंधित जिलों में बड़े पैमाने पर पुलिस बल के साथ-साथ अर्द्धसैनिक बलों की 9 कंपनियां भी तैनात की गई हैं।

अयोध्या में सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं, जबकि वीएचपी ने घोषणा की है कि वह यात्रा के कार्यक्रम पर आगे बढ़ेगी, जिसे सत्तारूढ़ एसपी सरकार ने सांप्रदायिकता भड़कने की आशंका के चलते बैन कर दिया है। अयोध्या में कर्फ्यू जैसी स्थिति है। दुकानें बंद हैं और नया घाट क्षेत्र की घेराबंदी कर दी गई है। गौरतलब है कि वीएचपी ने राज्य सरकार को पत्र लिखकर 25 अगस्त से 13 सितम्बर तक चौरासी कोसी परिक्रमा का आयोजन करने की इजाजत मांगी थी, लेकिन सरकार ने परम्परा के अनुसार इस अनुष्ठान का समय बीत जाने तथा सुरक्षा कारणों का हवाला देते हुए अनुमति देने से इनकार कर दिया था।

Posted by jasika lear, Published at 10.35

Tidak ada komentar:

Posting Komentar

Copyright © THE TIMES OF CRIME >